लिबरल डेमोक्रेटिक अलाइंस का प्रेस कांफ्रेस
01 मार्च, 2013 को नई दिल्ली के रफी मार्ग पर स्थित कांस्टीटयूशन क्लब में, लिबरल डेमोक्रेटिक अलाइंस की अगुवाई में लोक सत्ता पार्टी, नया दौर पार्टी तथा राष्ट्रीय यूथ पार्टी ने दिल्ली में रोटी, बिजली और शिक्षा की समस्याओं को लेकर प्रेस सम्मेलन आयोजित की।

विदित रहे कि लिबरल डेमोक्रेटिक अलाइंस का गठन आगामी विधान सभा और लोक सभा चुनाव को ध्यान में रखकर हुआ है।

नया दौर पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डा. संजीव छिब्बर, लोक सत्ता पार्टी के दिल्ली प्रदेश के अध्यक्ष अनुराग केजरीवाल, राष्ट्रीय यूथ पार्टी के राष्ट्रीय समन्वयक उत्कर्ष कुमार तथा आमंत्रित लोक राज संगठन के सर्वहिन्द अध्यक्ष एस. राघवन भी मंच पर उपस्थित थे।

एस. राघवन ने अपने संगठन के ध्येय को स्पष्ट करते हुए कहा कि देश में लोक राज लाने या सत्ता को लोगों के हाथों में लाने की दिशा में चल रहे प्रयासों और आंदोलनों का लोक राज संगठन समर्थन करती है।

उन्होंने बताया कि वर्तमान राजनीतिक व्यवस्था और इसकी प्रक्रिया, संस्थागत राजनीतिक पार्टियों के द्वारा खुद के लिए सत्ता हड़प लेने व लोगों को राजनीति से किनारे रखने के लिए बनाया गया है। हमें इसका विरोध करना चाहिए और इसके विकल्प के लिए सभी को मिलकर काम करना होगा।

उपरोक्त विषयों में से रोटी पर बात रखते हुए उन्होंने कहा कि संसद के वर्तमान सत्र में खाद्य सुरक्षा विधेयक को केंद्र सरकार पारित करने की कोशिश कर रही है, ऐसे समय में, जब एफसीआई के गोदामों में 70 लाख टन खाद्यान्न का बड़ा हिस्सा सड़ रहा है। खाद्य सुरक्षा बिल का जिक्र करते हुए कहा कि विधेयक का वर्तमान मसौदा, एक मौलिक अधिकार के रूप में, गुणवत्ता सहित पर्याप्त मात्रा में लोगों के भोजन को मान्यता देने से इंकार करता है।

कल के बजट घोषणा में सार्वजनिक वितरण प्रणाली पर अल्प आवंटन से स्पष्ट है कि यूपीए सरकार बढ़ती खाद्य समस्याओं और घटती खाद्य सुरक्षा के प्रति बिल्कुल गंभीर नहीं है।

उन्होंने देश के रक्षा बजट पर टिप्पणी करते हुए कहा कि क्या कोई देश बाहरी आक्रमण से सुरक्षित हो सकता है, जब देश के अधिकांश नागरिक कुपोषण, घटते जीवनस्तर, स्वास्थ्य की गिरती हालत और रोटी की असुरक्षा से चिंतित हों। शारीरिक और मानसिक स्तर पर मजबूत नागरिकों का देश किसी भी बाहरी आक्रमणों को चुनौती दे सकता है।

अनुराग केजरीवाल ने बिजली उपभोक्ताओं को सचेत करते हुए कई आंकड़े पेश किये, जो यह दिखाते हैं कि बिजली कंपनियों के द्वारा दाम बढ़ाकर दिल्ली की जनता को लूटे जाने के पीछे सरकार है।

उत्कर्ष कुमार ने कहा कि आज कांग्रेस और भाजपा के बीच जनता फंसी हुई है। जागरूक नागरिक होने के नाते हमें विकल्प पेश करने की जरूरत है।
अनुज दुबे ने कहा कि पीने का साफ पानी सभी को उपलब्ध कराने में सरकार की नाकामी के पीछे बड़ी-बड़ी कंपनियों का मुनाफा छिपा हुआ है।

बीबी तिवारी ने कहा कि बिजली के विषय पर बोलते हुए कहा कि यदि बिजली कपंनियों को घाटा होता है, तो उन्हें यह धंधा छोड़ देना चाहिए।

डा. संजीव छिब्बर ने कहा कि लिबरल डेमोक्रेटिक अलाइंस आने वाले विधान सभा व लोक सभा चुनाव में दिल्ली से कांग्रेस और भाजपा को उखाड़ फेंकने का काम करेगी।

By admin