Role of Parties

Interest category is to look at the Role Parties<br />

Political Forum: Thorough going reform in the political system and process needed!

Submitted by admin on Fri, 2017-03-31 14:48

Lok Raj Sangathan organized a round-table discussion on the burning topic: “Thorough-going reforms in the political system and process needed”. Following the just concluded assembly elections to five states – U.P., Manipur, Uttarakhand, Punjab and Goa, the discussion brought out a great degree of unanimous concern among the various participant groups and individuals, on how people are completely marginalized in India, which is touted as the world’s most populous democracy.

A nation-wide movement for fundamental political and electoral reforms launched in Chennai!

Submitted by admin on Thu, 2017-03-23 15:29

20170319_Chennai_Electoral reformsUnder the topic “Wresting citizen’s rights from polity” (Ini Oru Vidhi Seyvom) activists belonging to 15 people’s organisations came together on March 19th in Chennai to discuss a fundamental transformation of the political and electoral process.

Joint Meeting on 19 March 2017 in Chennai

Submitted by admin on Fri, 2017-03-17 15:58

Public Meeting

*Let us put an end to corruption ridden party politics and pave the way for people’s empowerment!*

Venue: Srinivasa Sastri Hall, 40, Luz Church Road, Chennai – 4 (Near Nageswara Rao Park)

Date: Sunday, 19 March 2017

Time: 4 pm

Jointly organized by:

Lok Raj Sangathan, Gandhian Initiative for Social Transformation, Workers Unity Movement, Anti-Bribe Coalition

Contact: Rajarajan-9444160839

Click More to find the PDF of Tamil Invitation and leaflet.

राष्ट्रपति चुनाव, 2012

Submitted by admin on Wed, 2012-07-25 11:14

जुलाई 2012 में चुने जाने वाले, हिन्दोस्तान के राष्ट्रपति के पद के लिये उपयुक्त उम्मीदवार का चयन हाल के हफ्तों में हमारे देश के शासकों के हलकों में एक मुख्य चिंता का विषय बन गया है।

भ्रष्टाचार और घोटालों से मुक्त एक प्रत्यक्ष लोकतंत्र के लिये

Submitted by admin on Mon, 2011-01-31 17:13

Image removed.आजकल मानो भ्रष्टाचार की बाढ़ आ गयी है। हर दिन, एक न एक घोटाले का खुलासा होता है या सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टियां एक दूसरे पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाती हैं। चाहे वह पामोलीन का मामला हो या राष्ट्रमंडल खेलों का, चाहे वह 2-जी के स्पेक्ट्रम का आबंटन हो या शहरों में फ्लैट्स का, चाहे वह न्यापालिका के निर्णयों के औचित्य का मामला हो या जांच समिति की सिफारिशों का, चाहे वह रक्षा संबंधी खरीदी का मामला हो या वाणिज्यिक हवाई जहाजों की खरीदी का, चाहे वह सब्जियों और दालों की कीमतों का प्रश्न हो या प्रत्यक्ष पूंजी निवेश का, लोगों को साफ होता जा रहा है कि सरकार और प्रशासन की हर कृति लोगों के हित के खिलाफ होती है। आज तक सरकार का ऐसा कोई मामला नहीं प्रकट हुआ है जो किसी खास इजारेदार पूंजीपति या आम तौर पर बड़े उद्योगपतियों के हित में न हो।