घर-घर में दिल्ली जल बोर्ड का कनेक्शन लगाकर पानी दिया जाये!

Submitted by admin on Sun, 2016-09-11 00:13

पुर्नवास कालोनी मदनपुर खादर में 28 अगस्त, 2016 को पीने के पानी की मांग को लेकर एक दिवसीय धरना दिया गया। धरने को कालोनी के जलेबी चैक पर किया गया, जिसमें सैंकड़ों लोगों ने हिस्सा लिया।

धरने का आयोजन लोक राज संगठन तथा लोक राज समिति पुर्नवास कालोनी मदनपुर खादर ने किया। इसमें भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी तथा कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी भी शामिल हुयीं और अपना समर्थन दिया। धरने के आयोजन में मदनपुर खादर की लोक राज समति के नौजवानों ने बढ़चढ़कर हिस्सा लिया और धरना स्थल को लोक राज संगठन के सुंदर नारों के बैनरों से सजाया। जिन पर लिखा था - “पानी हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है!”, “पढ़ाई-लिखाई छोड़कर, हम पानी भरेंगे कब तक?”, “पानी जैसी मूल जरूरत को पूरा करना राज्य की जिम्मेदारी है!, “पानी के साथ राजनीति नहीं चलेगी!”, ”टैंकरों की बंदरबांट बंद करो!”, “हर घर में दिल्ली जल बोर्ड का कनेक्शन दो!”, “पार्टियां टैंकर की राजनीति करती हैं, वोट बैंक खोने से डरती हैं!”, “सरकार तुम बताओ, पानी भरें या पढ़ाई करें!”, वर्षों से दिल्ली सूखी है, कांग्रेस-भाजपा सिर्फ सत्ता की भूखी हैं!”, “पानी हमारा संवैधानिक अधिकार, क्यों नहीं देती सरकार?”, “घर-घर में जल बोर्ड का दो कनेक्शन, वरना बेकार हैं, चुनाव और इलेक्शन!”, “जब वोट हमारा कानूनी, तो क्यों है हक मेरा गैर-कानूनी?”, “वोट हमारा लीगल, जब पानी मागें तो हम इनलीगल क्यों?”, ”दिल्ली देश की राजधानी है, ‘आम आदमी’ आम आदमी को पानी न दे यह कैसी बेइमानी है!”, ”हमारी समस्याओं का एक इलाज - लोक राज, लोक राज!“, ”पानी के कनेक्शन के लिये कानूनी वैधता हो!”, “टैंकर मुक्त दिल्ली, पाईप वाटर युक्त दिल्ली!“ ये नारों से लोग आकर्षित हो रहे थे।

धरने में पानी और सीवर के लिये एक हस्ताक्षर अभियान भी चलाया गया। जिसमें सैकड़ों लोगों ने हिस्सा लिया और हस्ताक्षर किये।

Khader-water-28Aug-1  Khader-water-28Aug-2  Khader-water-28Aug-3  Khader-water-28Aug-4

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के वक्ता संतोष कुमार ने कहा कि मजदूर वर्ग का जीवन संघर्षमय रहता है। खादर जैसी कालोनियों के मजदूर दिल्ली की फैक्ट्रियों मंे रोजी-रोटी के काम करते हैं वे अपने श्रम से दौलत को पैदा करते हैं। जिससे दिल्ली की अर्थव्यवस्था चलती है। लेकिन उन्हीं मजदूरों को अपने घरों में न तो साफ पीने का पानी मिलता है, न उनके बच्चों को अच्छी शिक्षा मिलती है, न ही उनके लिये अच्छी स्वास्थ्य सेवा होती है। जो भी पार्टियां सत्ता में आती हैं मजदूरों के प्रति उनका रवैया नकारात्मक रहता है। दिल्ली की आबादी एक करोड़ से भी ज्यादा है लेकिन दिल्ली में जल बोर्ड का कनेक्शन लगभग 20 लाख लोगों के आसपास ही है। इससे पता चलता है कि दिल्ली में ज्यादातर लोगों के पास पीने का साफ पानी नहीं है। जब लोगों के पास जल बोर्ड के कनेक्शन ही नहीं हैं तो ऐसे में 20 हजार लीटर पानी फ्री देने का सरकारी दावा बिल्कुल खोखला साबित होता है।

Khader-water-28Aug-5  Khader-water-28Aug-6

Khader-water-28Aug-7  Khader-water-28Aug-8

उन्होंने कहा कि पानी हमारा मूलभूत अधिकार है और इसके लिये हमारा संघर्ष जायज़ है। जब तक दिल्ली के सभी लोगों को जल बोर्ड द्वारा कनेक्शन से पानी नहीं मिल जाता हम अपना संघर्ष जारी रखेंगे। उन्होंने उपस्थित लोगों को समझाया कि आज़ादी के समय 30 करोड़ हिन्दोस्तानियों पर 50 हजार अंग्रेज राज करते थे। आज देश में 125 करोड़ की आबादी है, उस पर सिर्फ 2 लाख पूंजीपतियों की अगुवाई में 150 घराने राज करते हैं। देश की अर्थव्यस्था उनके मुनाफे के लिये चलायी जाती है। यह देश 125 करोड़ हिन्दोस्तानियों का है जिनमें बहुसंख्यक मजदूर वर्ग उन्हें इस देश का मालिक बनना होगा, राजनीतिक सत्ता अपने हाथों में लेनी होगी, यही देश की सभी समस्याओं से मुक्ति की शर्त है।

पुरोगामी महिला संगठन से का. रेणु ने कहा कि लोक राज समिति द्वारा सालों से चलाये जा रहे संघर्ष की वजह से यहां पर सड़कें बनी हैं, डिस्पेंसरी बनी है, स्कूलों में अध्यापक बढ़ा है और नये स्कूल बने हैं, कुछ रूटों पर बसें भी चल रही हैं, यह हमारी जीत है। लेकिन इस बार हमारा संघर्ष पानी और सीवर का है। इसके लिये खादर की लोक राज समति ने मुख्यमंत्री को कई ज्ञापन दिये हैं, अभियान चलाये हैं। इसके साथ-साथ, दिल्ली की सभी लोक राज समितियों ने मिलकर 27 अगस्त, 2016 को जंतर मंतर पर एक दिवसीय धरना भी दिया। लेकिन अभी तक दिल्ली सरकार की तरफ से कोई भी सकारात्मक जवाब नहीं आया है। यहां का पानी पीने से हजारों लोग बीमार हो रहे हैं। जल माफिया खुल्लम-खुल्ला पानी बेच रहे हैं और उस पानी की शुद्धता की कोई भी गारंटी नहीं है। जल बोर्ड हमें पानी देगा तो उसकी शुद्धता की गारंटी भी होगी। लोगों को घर-घर मीटर लगाकर पानी देने से सरकार का रेवेन्यू भी बढ़ेगा। अंत में उन्होंने कहा कि पानी हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है और इसे हम लेकर रहेंगे!

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के दिल्ली सचिव का. धीरेन्द्र शर्मा ने अपने वक्तव्य में रखा कि खादर को बसे 15 साल से ज्यादा हो गये हैं। लेकिन पानी और सीवर की सुविधा आज तक नहीं है। बच्चों को पढ़ाने के लिये स्कूल ठीक ढंग से नहीं चलाये जाते हैं। हम आपके संघर्ष का पूरा समर्थन करते हैं। साथ ही साथ उन्होंने कहा कि 2 सितम्बर, 2016 को मजदूर वर्ग की सर्व हिन्द हड़ताल है। यह हड़ताल 12 सूत्रीय मांगों को लेकर की जा रही है। उन्होंने आह्वान किया कि आप सभी इस हड़ताल में शामिल होकर इसको सफल बनायें।

Khader-water-28Aug-9

धरने को संबोधित करते हुये भाकपा के जिला सचिव का. अमीर हैदर ने कहा कि दिल्ली सरकार ने वादा किया था कि घर-घर में 20 हजार मुफ्त पानी देगी। लेकिन आज तक पीने का पानी नहीं आया। दिल्ली सरकार ने दिल्ली की जनता के साथ छल किया है। उन्होंने जनता से एकजुट होकर संघर्ष करने का आह्वान किया।

धरने का समापन भाषण देते हुये लोक राज संगठन की सर्व हिन्द परिषद के सदस्य धर्मेन्द्र ने कहा कि हमें राजनीतिक सत्ता लोगों के हाथों में लानी होगी। अपने अधिकारों को हासिल करने के लिये लोगों अपनी पक्ष-निरपेक्ष समितियां बनानी होगीं, ये समितियां लोग अपनी काम की जगहों पर, रिहायशी इलाकों में, कालेजों में बना सकते हैं। इन समितियों में उन्हें बिना किसी राजनीतिक भेदभाव के एकजुट होकर अपने अधिकारों के लिये संघर्ष करना होगा।

Khader-water-28Aug-10

धरने के संबोधित करने वालों में शामिल थे भाकपा के का. अबदुल कादीर, संजय कालोनी लोक राज समिति के ब्लाॅक सचिव गोपाल, सामाजिक कार्यकर्ता शान्ति राणा, लोक राज समिति मदनपुर खादर के उपाध्यक्ष इक़लाक, आदि।

संघर्ष को आगे बढ़ाने के संकल्प के साथ धरने का समापन किया गया।

Posted In: India    New Delhi    Delhi    All    Rights    In Action